गुप्त नवरात्रि के दौरान कर्ज से मुक्ति पाने के लिए करें ये उपाय

हर साल माघ मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से आरंभ होता है। गुप्त नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा की सात्विक और तांत्रिक विधि से पूजा-अर्चना की जाती है। माघ गुप्त नवरात्रि 12 फरवरी (शुक्रवार) से शुरू हो चुके हैं जो 21 फरवरी समाप्त होंगे। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, गुप्त नवरात्र साल में दो बार आते हैं। पहले गुप्त नवरात्र अषाढ़ के महीने में और दूसरे माघ के महीने में। गुप्त नवरात्रि के दौरान गुप्त रूप से मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। गुप्त नवरात्रि के पीछे यह विचार प्रचलित है कि इस दौरान मां दुर्गा की गुप्त रूप से पूजा की जाती है। ऐसा करने से पूजा का फल कई गुना ज्यादा मिलता है।गुप्‍त नवरात्रि में मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करने के लिए पूजा के दौरान कमल का फूल चढ़ाएं। अगर आपके पास कमल का फूल नहीं है तो गुप्‍त नवरात्रि में अपने घर कमल के फूल वाली कोई तस्वीर भी लगा सकते हैं। कहते हैं कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्‍न होती हैं। गुप्‍त नवरात्रि में धन और समृद्धि की प्राप्ति के लिए चांदी या सोने का सिक्‍का घर पर लाने से बरकत आती है। मान्यता है कि मां लक्ष्‍मी प्रसन्‍न होकर सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं। अगर आपके घर में कोई व्‍यक्ति काफी समय से बीमार है तो गुप्‍त नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा को लाल रंग के पुष्‍प अर्पित करें। इसके साथ ही ऊं क्रीं कालिकायै नम: मंत्र का जप करें। कहते हैं कि ऐसा करने मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।