मथुरा में युवा उद्यमी ने फ्लिपकार्ट के जरिए अपने सपनों को पूरा किया

मथुरा, उत्तर प्रदेश के रहने वाले पीयूष हमेशा एक उद्यमी बनना चाहते थे। उनका सपना किसी तरह अपना कारोबार शुरू करना था। भले ही पीयूष ने अपनी पढ़ाई एमबीए में पूरी करने के बाद एक एमएनसी के लिए काम किया पर वह अपने काम से संतुष्ट नहीं था। 2020 में, COVID-19 महामारी के प्रकोप से देशव्यापी प्रतिबंध लगाए गए थे और इसी बीच पीयूष की नौकरी भी चली गई और उसे मथुरा में अपने माता-पिता के घर लौटना पड़ा।पीयूष कहते हैं, ”लॉकडाउन के दौरान, मैं अपने करियर को लेकर बेहद चिंतित था, मैं कुछ भी नहीं कमा रहा था। ऐसी परिस्थितियों ने मुझे उन सभी चीजों के बारे में सोचने के लिए प्रेरित किया जिनमें मैं अच्छा था। मुझे अपनी जीविका के लिए कुछ करना था।’’

पीयूष कहते हैं, ”लॉकडाउन के दौरान, मैं अपने करियर को लेकर बेहद चिंतित था, मैं कुछ भी नहीं कमा रहा था। ऐसी परिस्थितियों ने मुझे उन सभी चीजों के बारे में सोचने के लिए प्रेरित किया जिनमें मैं अच्छा था। मुझे अपनी जीविका के लिए कुछ करना था।’’

इस तरह के प्रश्नों और चिंताओं ने पीयूष के मन में एक नया दृष्टिकोण पैदा किया और उनका पुराना उद्यमशीलता का सपना एक बार फिर उभरने लगा।

अपने सपने को पूरा करने के लिए पीयूष ने नए अवसरों की तलाश शुरू कर दी। उसने महसूस किया कि वह एक ऐसे शहर में रहते हैं जो सदियों से एक तीर्थ स्थल के रूप में प्रसिद्ध है, और यहां पर पूजा संबंधित उत्पादों की मांग है।

इस तरह के प्रश्नों और चिंताओं ने पीयूष के मन में एक नया दृष्टिकोण पैदा किया और उनका पुराना उद्यमशीलता का सपना एक बार फिर उभरने लगा।

अपने सपने को पूरा करने के लिए पीयूष ने नए अवसरों की तलाश शुरू कर दी। उसने महसूस किया कि वह एक ऐसे शहर में रहते हैं जो सदियों से एक तीर्थ स्थल के रूप में प्रसिद्ध है, और यहां पर पूजा संबंधित उत्पादों की मांग है।