चीन की जनता करने लगी डेमोक्रेसी की डिमांड

चीन दुनिया की तीन बड़ी महाशक्तियों में सुमार है। लेकिन इसी देश में आम लोग आज सबसे ज्यादा परेशान हैं। पुरानी कहावत है कि इतिहास खुद को दोहराता है और चीन की जनता शायद 1989 के इतिहास को दोहराने के लिए सड़कों पर उतर आई है। चीन में शी जिनपिंग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन तेज हो गया है। पीएलए और राष्ट्रपति की तानाशाही से तंग आकर जनता ने जिनपिंग के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। चीन की जनता सड़कों पर बवाल काट रही है और जिनपिंग के इस्तीफे की मांग कर रही है। चीन की जनता अब लोकतंत्र की मांग कर रही है। चीन में कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए कड़े प्रतिबंधों के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन तेज हो गए हैं। इस बीच, देश में संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और 27 नवंबर को पहली वार 40,000 नए मामले सामने आए। बताया जा रहा है कि कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है। यूनिवर्सिटी के छात्र सफेद कागज लेकर मूक प्रदर्शन करते दिखे। पेइचिंग और नानजिंग यूनिवर्सिटी के छात्रों ने भी प्रदर्शन किया। एक शख्स झाओ ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने ‘शी चिनफिंग, इस्तीफा दो, कम्युनिस्ट पार्टी सत्ता छोड़ो’, ‘शिंचियांग से प्रतिबंध हटाओ, चीन से प्रतिबंध हटाओ’, ‘हम स्वतंत्रता चाहते हैं’ के नारे लगाए। चीन। में इस तरह के प्रदर्शन आम बात नहीं है। रविवार की रात शंघाई में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान, जैसे ही प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पें हुईं, रैली को कवर कर रहे बीबीसी के एक पत्रकार को पुलिस अधिकारियों द्वारा घसीटा गया, लात मारी गई, हथकड़ी लगाई गई और कुछ समय के लिए हिरासत में लिया गया। प्रारंभ में, पुलिस ने देश भर में विरोध प्रदर्शनों की अनुमति दी थी और दूर से ही देखती थी। हालांकि, उन्होंने प्रदर्शनकारियों को बंद करना शुरू कर दिया है और उनमें से कुछ को कई शहरों में गिरफ्तार कर लिया है। शंघाई में, प्रदर्शनकारी रविवार की रात कम हो गए, लेकिन भोर में बड़ी संख्या में सड़कों पर वापस आ गए। उन्होंने “लोगों को रिहा करो” का नारा लगाया।