हरियाणा के आदमपुर विधानसभा उपचुनाव में तीन बजे तक 55 प्रतिशत मतदान

हरियाणा में बृहस्पतिवार को आदमपुर विधानसभा उपचुनाव में तीन बजे तक 55 प्रतिशत मतदान हुआ। आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। इस उपचुनाव के नतीजे से यह तय होगा कि पांच दशक से भजनलाल परिवार का गढ़ रहे इस क्षेत्र में अब भी उसका दबदबा कायम है अथवा नहीं। इस निर्वाचन क्षेत्र में सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ जो शाम छह बजे तक चलेगा। इसमें करीब 1.71 लाख पात्र मतदाता हैं। मतों की गिनती छह नवंबर को होगी। भारत निर्वाचन आयोग के अनुसार पहले दो घंटे में 10.5 प्रतिशत, 11 बजे तक 22.51 फीसद, एक बजे तक 41.24 प्रतिशत और तीन बजे तक 55.12 प्रतिशत मतदान हुआ।अधिकारियों ने कहा कि कहा कि शांतिपूर्ण एवं सुचारू ढंग से मतदान चल रहा है।हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल ने पीटीआई-से कहा, ‘‘ मतदान शांतिपूर्ण चल रहा है।’’ इस उपचुनाव में 22 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं और वे सभी पुरूष हैं। जिन मुख्य दलों ने अपना उम्मीदवार उतारा है, वे भाजपा, कांग्रेस , इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) और आम आदमी पार्टी (आप) हैं। इस निर्वाचन क्षेत्र में 180 मतदान केंद्र बनाये गये हैं जिनमें 36 को ‘संवेदनशील’ तथा 39 को ‘अतिसंवेदनशील’ घोषित किया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से उपचुनाव कराने के लिए जिला प्रशासन ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की है। कई मतदान केंद्रों पर महिलाओं समेत मतदाताओं की लंबी कतारें देखी गयी। पहली बार मतदाताओं में उत्साह नजर आया और उन्होंने वोट डालने के बाद अपनी अगुली पर लगी स्याही दिखायी। मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने आदमपुर के मतदाताओं से बड़ी संख्या में वोट डालने की अपील की। कुलदीप बिश्नोई के विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद इस सीट पर उपचुनाव कराया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल के छोटे बेटे कुलदीप बिश्नोई विधानसभा एवं कांग्रेस से इस्तीफा देकर अगस्त में भाजपा में शामिल हो गये थे। बिश्नोई के बेटे भव्य (29) भाजपा प्रत्याशी के तौर पर यह उपचुनाव लड़ रहे हैं। वह भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये थे।

कांग्रेस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश को चुनाव मैदान में उतारा है जबकि इनेलो ने बागी कांग्रेस नेता कुर्दा राम नंबरदार को अपना प्रत्याशी बनाया है। आप की ओर से सतेंद्र सिंह चुनाव मैदान में हैं जो भाजपा छोड़कर आप में शामिल हो गये थे। आदमपुर 1968 से भजनलाल परिवार का गढ़ रहा है। कुलदीप बिश्नोई, उनकी मां जस्मा देवी, बेटे भव्य, पत्नी रेणुका सुबह ही वोट डालने पहुंचे। वोट डालने के बाद बिश्नोई ने कहा, ‘‘ सभी को आकर वोट डालना चाहिए।’’ उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी के बारे में कहा कि वह भजनलाल के परिवार की तीसरी पीढ़ी से हारने का रिकार्ड बनायेंगे। हालांकि जयप्रकाश ने इसके जवाब में कहा कि ‘‘ लोग उन्हें स्थायी निर्वासन में भेज देंगे।